जायफल खाने के फायदे और नुकसान Jaifal Khane ke Fayde or Nuksan

जायफल के बारे में – About Nutmeg

आज हम इस पोस्ट में आपको जायफल खाने के फायदे और नुकसान के बारे में बताने जा रहे है। जायफल का इस्तेमाल ज्यादातर मसलो में किया जाता है। इसमें बहुत सरे औषदीय गुण पाए जाते है जो हमारे बहुत सारी बीमारियों को दूर करने में हमारी मदद करता है। आयुर्वेद की बहुत सारी ओषधियो में इसका इस्तेमाल किया जाता है इसकी खुश्बू से पूरा रसोई घर महक उठता है। जायफल एक बहू लोकप्रिय भारतीय मसालों में से एक है।

  1. जायफल के बारे में
  2. जायफल की उत्पति
  3. जायफल के स्वास्थ्य लाभ
  4. जायफल के घरेलू उपचार

जायफल का वैज्ञानिक नाम  मायरिस्टिका फ्रेग्रेंस (Myristica fragrans) है। मिरिस्टिका के बीज को जायफल कहा जाता है। जायफल खाने के फायदे और नुकसान के बारे में जानना बहुत जरूरी है। क्यों की जायफल में हर वो गुण मौजूद है, जो हमारी शरीर की सभी समस्याओं का समाधान करता है। जायफल के पेड़ से दो मसालों की उत्तपति होती है एक है “जायफल” और दूसरा है “जावित्री“। इसका उपयोग हमारे देश म हज़ारो वर्षो से किया जा रहा है।

जायफल की उत्पति – Origin of Nutmeg

जायफल बांदा द्वीप में पाया गया था जो मालुक द्वीपों के हिस्से में है जो इंडोनेशिया में द्वीपों के एक छोटे समूह से मिलकर बना है और सेलेब्स और न्यू गिनी के बीच स्थित है। उन्हें स्पाइस द्वीप समूह के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि उन्होंने अधिकांश मसाले जैसे कि जायफल, गदा, लौंग और काली मिर्च का उत्पादन किया। जायफल एक लंबे सदाबहार पेड़ के फल के अंदर बीज गिरी है जिसे मिरिस्टिका फ्रेग्रेंस कहा जाता है।

जायफल की पैदावार चीन, ताइवान, मलेशिया, ग्रेनाडा, केरल, श्रीलंका और दक्षिणी अमेरिका में ज्यादा होती है। 2019 में, इंडोनेशिया, ग्वाटेमाला, और भारत के नेतृत्व में जायफल का वैश्विक उत्पादन 142,000 टन था, जिसमें 38,000 से 43,000 टन और कुल मिलाकर दुनिया का कुल 85% था।

Benefits and side Effects(disadvantage) of Eating Nutmeg in hindi

जायफल के स्वास्थ्य लाभ – Health benefits of Nutmeg

  1. जायफल में औषधीय गुण पाए जाते हैं जो पेट के अल्सर का इलाज कर सकते हैं और पाचन में मदद करते हैं।
  2. जायफल में अनिद्रा का इलाज करने के गुण भी पाए जाते हैं।
  3. यह मस्तिष्क में तंत्रिका कोशिकाओं को उत्तेजित कर सकता है।
  4. जायफल में जीवाणुरोधी और रोगाणुरोधी गुण होते हैं, और यह आपके सिस्टम को साफ करने में मदद कर सकता है।
  5. जायफल में पाए जाने वाले आवश्यक तेलों में से एक यूजेनॉल है, जो दांत दर्द से भी छुटकारा दिला सकता है।
  6. मैक्लिगनन, जो जायफल में पाया जाने वाला रसायन है, कैविटीज को रोकने में मदद कर सकता है।
  7. जायफल कैल्शियम, पोटेशियम, मैंगनीज और लोहे जैसे खनिजों में समृद्ध है, ये सभी रक्तचाप को नियंत्रित करने और रक्त के संचलन को बढ़ाने में मदद करते हैं।
  8. जायफल मैरिसलिगनन में समृद्ध है, जो यकृत के विकारों और चोटों के इलाज में मदद कर सकता है।
  9. जायफल में कीमोप्रिवेंटिव गुण होते हैं जो कैंसर को रोकने में मदद कर सकते हैं।
  10. जायफल में मौजूद रासायनिक मिरिस्टिसिन कैंसर कोशिकाओं के विकास और ल्यूकेमिया के मेटास्टेसिस से लड़ने में मदद कर सकता है।
  11. जायफल का उचित मात्रा में सेवन करने से कोलेस्ट्रॉल का स्तर भी कम होता है। इस मसाले में हाइपोलिपिडेमिक प्रभाव कम करने का गुण होता है जो कोलेस्ट्रॉल के स्तर में वृद्धि को ट्रिगर करने में मदद करता है।
  12. यह मसाला उपचार और साथ ही दस्त से राहत प्रदान करने में मदद कर सकता है।
  13. जायफल वजन कम करने में भी मदद करता है। यह शरीर को विषाक्त पदार्थों को खत्म करने में मदद कर सकता है
  14. जायफल में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो शरीर के सुचारू संचालन में बहुत फायदेमंद होते हैं।

जायफल के नुकसान – Side effects of Nutmeg

  1. जायफल का अधिक सेवन जोखिम भरा हो सकता है, जिससे मतली, उल्टी और मतिभ्रम हो सकता है।
  2. जायफल के विषैले प्रभाव मिरिस्टिसिन तेल की उपस्थिति के कारण होते हैं, जो मसाले में पाया जाने वाला एक प्राकृतिक कार्बनिक यौगिक है।
  3. अधिक जायफल के सेवन से हृदय और तंत्रिका संबंधी समस्याओं से पीड़ित हो सकते हैं।

जायफल के घरेलू उपचार – Home Remedies of Nutmeg

  1. जायफल के पाउडर में शहद मिलाकर पीने से खासी में फायदा मिलता है।
  2. अगर हमारे चेहरे पर पिम्पल्स है तो उसे दूर करने के लिए हमे 1 चम्‍मच जायफल पाउडर, 1 चम्मच दही और 1 चम्मच शहद को मिलाकर अपनी स्किन पर लगाना चाहिए सूखने के बाद साफ पानी से धों लेना चाहिए।
  3. डिलीवरी के बाद अगर किसी महिला को लगातार कमर में दर्द की शिकायत बनी हुई है तो घिसे हुए जायफल को पानी में मिलाकर कमर पर सुबह और शाम लगाने से आराम मिलता है.।
  4. आगर किसी को रात में नींद नहीं आने की शिकायत है तो एक चुटकी जायफल के पाउडर में थोड़ा शहद मिलाकर सोने से 20 मिनट पहले लें.।
  5. डिलीवरी के बाद अगर किसी महिला को लगातार कमर में दर्द की शिकायत बनी हुई है तो घिसे हुए जायफल को पानी में मिलाकर कमर पर सुबह और शाम लगाने से आराम मिलता है.

Related posts you may like

© Copyright 2021 NewsTriger - All Rights Reserved.