दर्द क्या है | Dard Kya Hai | funny story

एक बार बहुत से लोगों ने एक सभा का आयोजन किया, विषय था दर्द क्या है। हर कोई अपनी राय देने के लिए स्वतंत्र था और सबने बारी बारी अपने तरिके से दर्द के बारे में बताया भी की दर्द क्या होता है

पहले एक बेरोजगार आये और बोले “पुरे दिन खाली बैठे हो और आप का नेट खत्म हो जाये दर्द उसे कहते है”

डाक्टर महोदय आये और बोले “दर्द मांसपेशियों में खिचाव के कारण उत्पन होता है “।

कवि महोदय आये और बोले “दर्द एक अहसास है जो कविता को जन्म देता है “।

एक प्रेमी बोला “दर्द प्रेमिका की जुदाई से होता है “।

एक ब्लॉगर बोले “लेख बड़ी मेहनत से लिखो और उसपे टिप्पणी न मिले तो दर्द होता है “।

एक विचारक बोले “दर्द वो है जो आनंद के न होने पर हम महसूस करते है “।

एक अभिनेता बोले “दर्द वो है जो पहले ही हफ्ते फिल्म के फ्लाप होने पर होता है “।

एक छात्र बोला “दर्द वो है पूरी रात जो पड़ा उसमे से कुछ भी परीक्षा में ना आये”।

शराबी बोला “दर्द वो है जो भरी बोतल के टूटने पर होता है “।

एक प्रोग्रामर बोला “दर्द वो है जब एक खूबसूरत लड़की मेरे प्रोजेक्ट को ज्वाइन करना चाहती है और प्रोजेक्ट मैनेजर मना कर देता है”।

एक महिला बोली “दर्द तब होता है जब मुझसे कम पैसे दे कर मेरी पडोसन वही साडी खरीद लाती है”।

अब हर कोई अलग-अलग तरह से दर्द की व्याख्या कर रहे थे, जब कई घंटे गुजर गए तो हमारे चौधरी ताऊ से नहीं रहा गया।

उन्होंने अपना लट्ठ उठाया और बजाना शुरू कर दिया, जब सब चिल्लाने लगे, तो ताऊ बोले अब दर्द समझ में आया या फिर से बताऊँ। सब बोले नहीं हमे समझ में आ गया। ताऊ बोले

“जब तक दर्द होगा नही तब तक पता कैसे चलेगा, लट्ठ पड़ी तो सबको पता चल गया की दर्द कैसा होता है “।