हुमायु मकबरे के बारे में About Humayun’s Tomb

हुमायु मकबरे के बारे में About Humayun’s Tomb

हुमायु मकबरे के बारे में – About Humayun’s Tomb

हुमायूँ का मकबरा दिल्ली के ऐतिहासिक स्मारको में से एक महत्वपूर्ण स्मारक है| राजधानी दिल्ली में हुमायूँ का मकबरा महान मुग़ल वास्तुकला का बेहतरीन नमूना है| यह मंत्रमुग्ध कर देने वाला हुमायूँ का मकबरा भारत में मुगल वास्तुकला का पहला उदाहरण है| हुमायूँ का मकबरा या मकबरा-ए-हुमायूँ सर्वश्रेष्ठ संरक्षित मुग़ल स्मारकों में से एक है और इसे 1993 में यूनेस्को की विश्व धरोहर घोषित किया गया था।

  1. हुमायु मकबरे के बारे में
  2. हुमायूँ का मकबरा कहाँ स्थित है
  3. हुमायू के मकबरे का इतिहास
  4. हुमायू के मकबरे की वास्तुकला
  5. हुमायूं मकबरे की यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय

हुमायूँ का मकबरा कहाँ स्थित है – Where is Humayun’s Tomb Located

यह भारतीय उपमहाद्वीप का पहला उद्यान-मकबरा था, और निज़ामुद्दीन पूर्व, दिल्ली, भारत में स्थित है, जो दीना-पनाह गढ़ के करीब है, जिसे पुराण किला (पुराना किला) भी कहा जाता है, जिसे हुमायूँ 1533 में मिला था।

हुमायू के मकबरे का इतिहास – History of Humayun’s Tomb

हुमायूँ का मकबरा उनकी विधवा हमीदा बानो बेगम की पहल की बदौलत बनाया गया था, जिन्होंने अपने निधन के नौ साल बाद 1565 में अपने मृत पति के लिए मकबरे का निर्माण शुरू किया था। निर्माण 1572 में समाप्त हो गया था। मुग़ल शासकों की कई क़ब्रें हैं जो चारदीवारी के बाड़े के अंदर स्थित हैं और 1857 में यहाँ से ए.डी. लेफ्टिनेंट हडसन ने अंतिम मुगल सम्राट बहादुर शाह द्वितीय पर कब्जा कर लिया था। मुगल वंश के कई शासकों ने यहां दफन किया था। हुमायूँ की पत्नी को भी यहाँ दफनाया गया है।

हुमायू के मकबरे की वास्तुकला – Architecture of Humayun’s Tomb

मकबरे की वास्तुकला फारसी वास्तुकला से काफी प्रभावित है। इमारत के वास्तुकार मिरक मिर्ज़ा गियास स्वयं फारसी मूल के थे। घियास ने एक फारसी शैली के चारबाग उद्यान के केंद्र में चतुर्भुज रूप के साथ मकबरे का निर्माण किया। उद्यान, जो पैदल मार्ग या बहते पानी से चार मुख्य भागों में विभाजित है
इस स्मारक की भव्यता भव्य दो मंजिला प्रवेश द्वार पर प्रवेश करने पर स्पष्ट हो जाती है। उच्च मलबे की दीवारें एक बड़े बगीचे को चार बड़े वर्गों में विभाजित करती हैं, जो कि कारण और जल चैनलों द्वारा अलग किए गए हैं। अपनी बारी पर ये चार मुख्य भाग चैनलों द्वारा 36 भागों से अलग किए जाते हैं। इस अवधि के दौरान फव्वारे को सरल लेकिन उच्च विकसित इंजीनियरिंग कौशल के साथ काम किया गया था।

हुमायूं मकबरे की यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Humayun Tomb

  1. हुमायूँ मकबरा समय- सुबह 8 बजे से शाम 6 बजे तक खुला रहता है।
  2. हुमायूँ मकबरा खोलने का समय- सुबह लगभग 8.00 बजे शुरू होता है।
  3. हुमायूं मकबरे का समापन समय- शाम लगभग 6.00 बजे शुरू होता है।
  4. यह मकबरा पूरे सप्ताह आगंतुकों के लिए खुला रहता है।